Suvichar

Suvichar

बार बार असफल होने पर भी उत्साह ना खोने में ही सफलता है.

खेल में हम सदा ईमानदारी का पल्ला पकड़कर चलते है, पर अफ़सोस है कि कर्म में हम इस ओर ध्यान तक नहीं देते।

कर्म का मूल्य उसके बाहरी रूप और बाहरी फल में इतना नहीं है, जितना की उसके द्वारा हमारे भीतर दिव्यता की वृद्धि होने में है।

जिसने अपने मन को वश में कर लिया है,
उसकी जित को देवता भी हार में नहीं बदल सकते !!

छाता और दिमाग जब खुले हो,
तभी उचित प्रयोग में आते है,
वरना फिजुल में बोझ बढ़ाते है !!

छोटे मन से कोई बड़ा नहीं होता,
टूटे मन से कोई खड़ा नहीं होता !!

मत करना कभी भी गुरुर अपने आप पर ए इन्सान,
न जाने खुदा ने तेरे और मेरे जैसे कितने को,
मिटटी से बनाकर मिटटी में मिला दिए !!

यदि किसी दुखी व्यक्ति के चहेरे पर हंसी आती है,
और उसकी वजह अगर आप हो तो,
मान लेना की आपसे अधिक महत्वपूर्ण व्यक्ति,
इस दुनिया में कोई नहीं है !!

वाणी में सुई भले ही रखो,
पर उसमे धागा डालकर रखो,
ताकी सुई केवल छेद ही न करे,
बल्कि आपस में माला की तरह पिरोकर भी रखे !!

Suvichar hindi lines status

प्रार्थना ईश्वर में कोई परिवर्तन नहीं लाती,
यह तो उस व्यक्ति को परिवर्तित करती है
जो सच्चे दिल से प्रार्थना करता है !!

Previous page 1 2 3 4Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button