Sad Shayari

Sad Shayari

sad shayari

Sad Shayari
कितनी आसान सज़ा देते हो,
मुझको मरने की दुआ देते हो!

sad shayari

क्या कहा, ‘एहसास’ करते हो..?
रहने दो मेरी जान, “बकवास” करते हो.

sad shayari

Sad Shayari
कोई शौहरत नहीं है मेरे दोस्त 
जो मुझ पे चादरे चड़ाई जा रहीं है, 
ये तो वो आखरी रस्म है जो 
मुझे दफ़नाने से पहले निभाई जा रहीं है, 

sad shayari

जो रिश्ता हमको रुला दे,
उससे गहरा कोई औऱ रिश्ता नहीं
जो रिश्ता हमको रोते हुए छोड़ दे,
उससे कमज़ोर कोई औऱ रिश्ता नहीं !!

sad shayari

Sad Shayari
दु:ख देकर भी सवाल करते हो
तुम भी क्या कमाल करते हो.

sad shayari

जब मिलोगे किसी और से तो जान जाओगे
अच्छे नही थे हम ,तो इतने बुरे भी नही थे हम।

sad shayari

Sad Shayari
ज़ख़्म रूह का जिस्म से नुमायाँ नहीं होता,
दिल पर लगी चोट का कोई निशाँ नहीं होता।
बस मेरी क़लम ही सुनती है तुम्हारे क़िस्से,
सामने किसी और के ये ग़म बयाँ नहीं होता।

sad shayari

ज़ख़्म रूह का जिस्म से नुमायाँ नहीं होता,
दिल पर लगी चोट का कोई निशाँ नहीं होता।
बस मेरी क़लम ही सुनती है तुम्हारे क़िस्से,
सामने किसी और के ये ग़म बयाँ नहीं होता।

sad shayari

Sad Shayari
दु:ख देकर भी सवाल करते हो
तुम भी क्या कमाल करते हो.

sad shayari

तुझे याद करके ही तो जी रहे है
जिस दिन भूल गया समझ लेना
तेरे इश्क में खुद को दफ़न कर दिया कब्र मे

Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button