Maa Shayari

Maa Shayari

maa pe shayari

maa shayari

Maa Shayari
माँ ना होती तो वफ़ा कौन करेगा,
ममता का हक़ भी कौन अदा करेगा,
रब हर एक माँ को सलामत रखना,
वरना हमारे लिए दुआ कौन करेगा

maa shayari

यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ,
जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ।

maa shayari

Maa Shayari
वो जमीं मेरा वो ही आसमान है,
वो खुदा मेरा वो ही भगवान है,
क्यों मैं जाऊं उसे कही छोड़ के,
माँ के कदमों में सारा जहान है।

maa shayari

ये कैसा क़र्ज़ है जिसे
मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न आ जाऊं माँ सजदे में रहती है।

maa shayari

Maa Shayari
रुके तो चांद जैसी है,
चले तो हवाओं जैसी है,
वो मां ही है,
जो धूप में भी छांव जैसी है।

maa shayari

माँ से रिश्ता ऐसा बनाया जाए,
जिसको निगाहों में बिठाया जाए,
रहे उसका मेरा रिश्ता कुछ ऐसे कि,
वो अगर उदास हो तो हमसे भी,
मुस्कुराया ना जाए।

maa shayari

Maa Shayari
उसके होठों पर कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो कभी खफा नहीं होती।

maa shayari

हजारो फूल चाहिए,एक माला बनाने के लिए,
हजारों दीपक चाहिए,
एक आरती सजाने के लिए,
पर मां अकेली ही काफी है,
बच्चों की जिंदगी को स्वर्ग बनाने के लिए।

maa shayari

Maa Shayari
मैं अपने छोटे मुख से,
कैसे करूं तेरा गुणगान,
मां तेरी ममता के आगे,
फीका सा लगता है भगवान।

maa shayari

फुल में जिस तरह खुशबू अच्छी लगती है,
मुझको उस तरह मेरी माँ अच्छी लगती है,
अल्लाह सलामत और खुश रखे मेरी मां को,
सारी दुआओं में मुझे यह दुआ अच्छी लगती है।

Previous page 1 2 3 4 5Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button