Dosti Shayari

Dosti Shayari

Friendship Shayari in Hindi

dosti shayari

Dosti Shayari
जिक्र हुआ जब खुदा की रहमतों का,
हमने खुद को खुश नसीब पाया,
तमन्ना थी एक प्यारे से दोस्त की,
खुदा खुद दोस्त बनकर चला आया

dosti shayari

हर खुशी से खूबसूरत तेरी शाम कर दूँ,
अपना प्यार और दोस्ती तेरे नाम कर दूँ
,मिल जाये अगर दोबारा ये ज़िन्दगी ऐ दोस्त,
हर बार ये ज़िन्दगी तुझ पे कुर्बान कर दूँ

dosti shayari

Dosti Shayari
तुम सदा मुस्कुराते रहो यह तमन्ना है हमारी,
हर दुआ में मांगी है बस खुशी तुम्हारी,
तुम सारी दुनिया को दोस्त बना कर देख लो,
फिर भी महसूस करोगे कमी हमारी

dosti shayari

तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में,
सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में,
एक दिन जब दोस्ती की आपसे तो यूँ लगा,
कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में

dosti shayari

Dosti Shayari
करनी है खुदा से गुजारिश,
तेरी दोस्ती के शिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जनम में मिले दोस्त तेरे जैसा,
या फिर कभी ज़िन्दगी न मिले

dosti shayari

तू दूर भी है मुझसे और पास भी है,
मुझे तेरी कमी का एहसास भी है,
दोस्त तो हमारे लाखों हैं इस जहाँ में,
पर तू प्यारा भी है और खास भी है

dosti shayari

Dosti Shayari
जो कोई समझ न सके वो बात है हम,
जो ढल के नई सुबह लाये वो रात हैं हम,
छोड़ देते हैं लोग रिस्ते बनाकर यूँ ही,
जो कभी न छूटे ऐसा साथ हैं हम।

dosti shayari

कुछ वक़्त का इंतज़ार मिला मुझको,
पर खुदा से बढकर यार मिला मुझको,
न रही तमन्ना किसी जन्नत की मुझे,
तेरी दोस्ती से वो प्यार मिला मुझको

dosti shayari

Dosti Shayari
बिंदास मुस्कराओ यार क्या गम है,
ज़िन्दगी में टेंसन किसको कम है,
याद करने वाले तो बहुत हैं आपको,
तंग करने वाले तो सिर्फ हम हैं

dosti shayari

दोस्ती वो एहसास है जो मिलता नहीं,
दोस्ती वो पर्वत है जो झुकता नहीं,
इसकी कीमत क्या है पूछो हमसे,
ये वो अनमोल मोती है जो बिकता नहीं

dosti shayari

Dosti Shayari
दोस्ती का फ़र्ज़ हम यूँ अदा करते हैं,
दोस्त के नाम पर जान फ़िदा करते हैं,
तुम्हे फूल का ज़ख्म भी न आने पाए,
अल्लाह से रोज बस ये ही दुआ करते है

  1. Sorry Shayari
  2. 2 Line Shayari

Previous page 1 2 3 4 5 6 7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button