Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari

देशभक्ति शायरी

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari
ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए कुछ याद
उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये….

Desh Bhakti Shayari

जहाँ जाति भाषा से बढ़कर देशप्रेम की धारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari
सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा
हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा।
परबत वो सबसे ऊँचा हमसाया आसमाँ का
वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा

Desh Bhakti Shayari

यहाँ आरती है अज़ान है, हिन्दू हैं मुसलमान हैं,
है गर्व मुझे इस देश पर क्यूंकि ये मेरा हिन्दुस्तान है।

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari
सारा संसार ये जानता है हमारी जो भी पहचान है,
संस्कृत से संस्कृति हमारी हिंदी से हिन्दुस्तान है।

Desh Bhakti Shayari

जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है,
जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari
इश्क तो करता है हर कोई
महबूब पे तो मरता है हर कोई
कभी वतन को महबूब बना के देखो
तुझ पे मरेगा हर कोई

Desh Bhakti Shayari

कर चले हम फ़िदा जाने तन साथियो
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो
….अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari
हाथ जोड़कर नमन जो करते, मत समझो कि कमजोर हैं
हम उठाओ कथायें इतिहास की तो छाये हुए हर ओर हैं हम।

Desh Bhakti Shayari

सुन्दर है जग में सबसे, नाम भी सबसे न्यारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है

Previous page 1 2 3 4 5 6Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button