Armaan Shayari

Armaan Shayari

Quotes For Armaan Shayari

Armaan Shayari

Armaan Shayari
ज़िंदगी अभिशाप भी, वरदान भी
ज़िंदगी दुख में पला अरमान भी कर्ज़
साँसों का चुकाती जा रही ज़िंदगी है
मौत पर अहसान भी

Armaan Shayari

तेरी रूह से रूबरू हुआ ए शायर आज मैं
एक अरमान अब आखों मे है यहाँ नही तो
क्या हुआ, वहाँ तुमसे मिलूंगा जरुर।तेरी
महफ़िल का गवाह बन ना सका मैं मौत से
दोस्ती होने दे एक रोज़ वहाँ महफ़िल मे रंग
भरूँगा जरुर

Armaan Shayari

Armaan Shayari
मुद्दत से तमन्ना हुई अफसाना न मिला
हम खोजते रहे मगर ठिकाना न मिला
लो आज फिर चली गई जिंदगी नजरो
के सामने से और उसे कोई रुकने का
बहाना न मिला

Armaan Shayari

बेशक थोड़ा इंतजार मिला हमको पर
दुनिया का सबसे हसीं यार मिला हमको
न रही तमन्ना अब किसी जन्नत की तेरी
दोस्ती में वो प्यार मिला हमको

Armaan Shayari

Armaan Shayari
मुझे बेबस दिलों में पल रहे अरमान
लिखने हैं ग़रीबों के घरों के दर्द और
तूफ़ान लिखने हैं कभी मौक़ा मिलेगा तो
चमन की बात कर लूंगा अभी फुटपाथ के
गलते हुए इन्सान लिखने हैं

Armaan Shayari

ना सलाम याद रखना,
ना पैगाम याद रखना।
छोटी सी तमन्ना है ऐ दोस्त मेरा
नाम याद रखना।

Armaan Shayari

Armaan Shayari
जब किसी को सपने किसी के अरमान
बन जाए,जब किसी की हँसी किसी की
मुस्कान बन जाए,बेपनाह प्यार कहते है
उसे जब किसी की सांस किसी की जान
बन जाए..

Armaan Shayari

ज़िंदगी बड़ी अजीब होती है |कभी हार
कभी जीत होती है |तमन्ना रखो समंदर
की गहराई छूने की |किनारों पे तो बस
ज़िंदगी की शुरुवात होती है |

Armaan Shayari

Armaan Shayari
अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने
का,शिकवा है खुद के खामोश रह जाने
का,दीवानगी इस से बढकर और क्या
होगी,आज भी इंतजार है तेरे आने का.

Armaan Shayari

तमन्नाओँ की भिड़ मेँ इक तमन्ना पुरी
हो गई ज़ीन्दगी से उम्मीद खत्म और
मौत की आरज़ू पुरी हो गई.

Previous page 1 2 3 4 5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button