Armaan Shayari

Armaan Shayari

Armaan Shayari For Gf / Bf

Armaan Shayari

Armaan Shayari
घायल किया जब अपनो ने,
तो गैरो से क्या गिला करना,
उठाये है खंजर जब अपनो ने,
तो जिंदगी की तमन्ना क्या करना ।

Armaan Shayari

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर
ख्वाहिश पे दम निकले,बहुत निकले
मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले।

Armaan Shayari

Armaan Shayari
अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने
का,शिकवा है खुद के खामोश रह
जाने का,दीवानगी इस से बढकर
और क्या होगी,आज भी इंतजार है
तेरे आने का

Armaan Shayari

इश्क में दौलत सारी ना लुटा देना,मम्मी
पापा के अरमान खाक में ना मिला
देना,घर से मिले हैं पैसे सब्जी लाने के
लिए बेटा,बाजार जाकर गर्लफ्रेंड का
रिचार्ज मत करा देना।

Armaan Shayari

Armaan Shayari
किताबो के पन्ने पलट के सोचते है |
यू पलट जाए ज़िंदगी तो क्या बात
है, तमन्ना जो पूरी हो ख्वाबो मे |
हक़ीकत बन जाए तो क्या बात है,

Armaan Shayari

दिल के अरमान एक एक कर टूटे
हैंआखों मे बसें ख्वाब सभी झूठे हैं।कैसे
भुला दूँ मैं उसकी यादों को मुह से लगे
जाम भी क्या कभी छूटे है

Armaan Shayari

Armaan Shayari
ना खुशी ना कोई तमन्ना है अब बस
अपने ही साए के संग रहते हैं हम कैसे
कहें कैसे हैं हम बस यूँ समझलो आप
खुश हैं तो खुश हैं हम.

Armaan Shayari

ख़ातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते सच
है कि हम ही दिल को संभलने नहीं देते
आँखें मुझे तलवों से वो मलने नहीं देते
अरमान मेरे दिल का निकलने नहीं देते।

Armaan Shayari

Armaan Shayari
जीने के लिये इस दुनिया में कुछ खास नही रह
जाता है सब कुछ होता है फिर भी कुछ पास
नही रह जाता है खुद अपने मे घुट कर जब
अरमान युं ही मर जाये तो इक हद के आगे दर्द
का भी एहसास नहीं रह जाता है

Armaan Shayari

खामोशियो में इज़हार ए दिल
कीजिये, तमन्ना हो गर कोई तो
बयान कीजिये, गुपचुप मुस्करा के
न तदपाईए, इश्क़ के नैनो से वार न
कीजिये.

Armaan Shayari

Armaan Shayari
तुम फिर आओ कि तमन्ना फिर से
मचल जाये,तुम फिर आओ कि
तमन्ना फिर से मचल जाये, तुम गले
लगाओ फिर से कि हम सब कुछ भूल जाये.

Previous page 1 2 3 4 5Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button